बुधवार, 4 अगस्त 2021

तुरा पश्चिम गारो हिल्स मेघालय के पर्यटन स्थल के बारे में विस्तार सहित जानकारी

तुरा (Tura) मेघालय पश्चिम गारो हिल्स जिले का सुंदरता से भरा एक छोटा सा शहर है। यह शहर अपने आदिवासी जीवन, पहाड़ी इलाके और हरियाली के लिए जाना जाता है। रोमांच से भरे खेलों को खेलने के लिए सैलानियों को अपनी और बहुत जल्दी आकर्षित करता है। यह शहर प्रकृति को करीब से देखने का मौका देता है। आइये आज हम बात करते है, तुरा पश्चिम गारो हिल्स मेघालय के पर्यटन स्थल (Tura Meghalaya Paschim Garo Hills Tourist Place) के बारे में विस्तार सहित। 



तुरा चोटी (Tura Peak) 


तुरा चोटी समुद्र तल से करीब 872 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। इस ऊँचाई से दूर दूर तक पहाड़ी दृश्य दिखाई देते है। यह दृश्य हर किसी सैलानी को बाँध लेते है। यहाँ रहने वाले लोगों का कहना है कि चोटी हमारी रक्षा करती है। सिंचोना की खेती सब से ज्यादा की जाती है। इस चोटी पर एक वेधशाला के साथ डाक बँगला भी बना हुआ है। पहाड़ पर चढ़ने वाले लोगों के अच्छी जगह है। 



यह भी पढ़े :- चेरापूंजी मेघालय के पर्यटक स्थल के बारे में विस्तार सहित जानकारी पढ़े


सिजू गुफा (Siju Cave)


सिजू गुफा अपनी सुंदरता के लिए बहुत प्रसिद्ध है। यह गुफा चुना पत्थर  की बनी हुई है। गारो पहाड़ियों के मध्य में स्थित है। कुछ विद्वानों के अनुसार भारत की सब से लंबी गुफा यही है। इस गुफा का अंतिम चोर अभी तक नहीं मिला है। इस गुफा के अंदर जाने से पहले चमगादड़ों से बच कर रहना होगा। सिजू गुफा को चमगादड़ों का घर कहा जाता है। 



सिजू चिड़ियाघर (Siju Zoo)


सिजू चिड़ियाघर में सैलानियों को कई किस्म के पक्षी देखने को मिलते है। इस पक्षियों में कुछ किस्में ऐसी भी है, जो बिलकुल ही लुप्त हो चुकी है। पक्षियों में रुचि रखने वाले लोगों के लिए बहुत अच्छा स्थान है। यह चिड़ियाघर सिजू गुफा के पास में ही स्थित है। तुरा जाने वाले सैलानी इस चिड़ियाघर को देखने जरूर जाए। बच्चों को साथ ले कर जरूर जाए।



पेल्गा झरना (Pelga Falls)


पेल्गा झरना सैलानियों के लिए जन्नत से कम नहीं है। यहाँ का माहौल बहुत ही शांत और आनंद से भरा है। लोग कुदरत के बहुत ही करीब आ जाते है। सैलानियों के देखने के लिए एक बांस से बना सुन्दर पुल है। पर्यटकों को इस स्थान पर खाने के लिए स्थानीय व्यंजन आराम से मिल जायेंगे। यह झरना तुरा शहर से 7 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। टैक्सी से लोग आसानी से आ जाते है। 



बालपकराम राष्ट्रीय पार्क (Balpakram National Park)


बालपकराम राष्ट्रीय पार्क तुरा मेघालय (Tura Meghalaya) का बहुत ही सुन्दर पर्यटन स्थल है। सैलानियों को कई किस्म के जानवर, पक्षियों के साथ, फल भी देखने को मिलते है। इस पार्क में कुछ ऐसी जानवरों की प्रजातियां है, जो अब लुप्त हो चुकी है। जिनमें पांडा को विशेष रूप से देखा जा सकता है। वैसे हिरण, संभार, तेंदुआ, बाघ, हाथी, काला हिरण और जंगली बिल्लियां भी देखने को मिलती है। हिरण, संभार, तेंदुआ, बाघ, हाथी, काला हिरण और जंगली बिल्लियां भी देखने को मिलती है।



यह भी पढ़े :- मेघालय के पर्यटक स्थल के बारे में विस्तार सहित जानकारी पढ़े


ससातग्रे गांव (Sasatgre Village)


ससातग्रे गांव नोक्रैक चोटी पश्चिम गारो हिल्स (Paschim Garo Hills) के निचले हिस्से में बसा हुआ है। इस गांव में सब से ज्यादा संतरों की खेती की जाती है। यहाँ से संतरे देश के कोने कोने में भेजे जाते है। गांव के ग्रामीण जीवन को देख कर सैलानियों का जाने को दिल ही नहीं करता है। ग्रामीण लोगों का स्वभाव बहुत ही मिलनसार है। दुनिया के शोर से दूर कुछ दिन बिताने के लिए अच्छी जगह है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया कमेंट बॉक्स में कोई भी स्पैम लिंक न डालें।

अहमदाबाद गुजरात भारत के पर्यटन स्थल के बारे में विस्तार सहित जानकारी

अहमदाबाद (Ahmedabad) गुजरात का बहुत ही सुन्दर शहर है। यह पहले गुजरात की राजधानी हुआ करता था। इसको कर्णावती नाम से भी पहचाना जाता है। साबरमती...