गुरुवार, 11 मार्च 2021

तारागढ़ दुर्ग अजमेर राजस्थान के बारे में जानकारी


तारागढ़ दुर्ग (Taragarh fort) राजस्थान (Rajasthan) के अजमेर (Ajmer) शहर के बूंदी जिले में स्थित है। यह बहुत ही सुन्दर और भव्य दुर्ग है। जिसे देखने के लिए दुनिया के कोने कोने से सैलानी आते है। इस किले का निर्माण वर्ष 1354 में राजा राव देव ने अरवाली की पहाड़ियों पर करवाया था। यहाँ से बूंदी शहर का बहुत ही सुन्दर दृश्य देखने को मिलता है। तारागढ़ किले को "स्टार फोर्ट" से भी पहचाना जाता है। आइये आज हम बात करते है, तारागढ़ दुर्ग अजमेर राजस्थान के बारे में जानकारी (Information)। 



इतिहास (History)


राजा राव देव के अपनी पत्नी तारा के कहने पर इस किले का निर्माण करवाया था। इसी दुर्ग में हज़रत मीरन सैयद हुसैन असग़र खंग्सवर की दरगाह भी स्थित है। हजरत मीरन सुल्तान शहाबुद्दीन गौरी के राज-काल में गवर्नर के रूप में कार्य करते थे। इस दुर्ग पर कई राजाओं ने राज किया है। यह किला राजस्थान (Rajasthan) राज्य के सब से प्राचीन किलों में से एक है। 



यह भी पढ़े - अजमेर राजस्थान के पर्यटक स्थल  की जानकारी


किले की बनावट (Fort Structure)


तारागढ़ किले (Taragarh fort) से बूंदी शहर का बहुत ही खूबसूरत दृश्य देखने को मिलता है। इसकी बनावट अपनी सुंदरता के कारण दुनिया भर के सैलानियों को अपनी तरफ खींचने का कार्य करती है। दुर्ग में प्रवेश करने के लिए तीन दरवाजे है। जिनको फूटा दरवाजा, लक्ष्मी पोल और गागुड़ी दरवाजे के नाम से पहचाना जाता है। इन दरवाजों के ऊपर दो हाथियों की मूर्तियों को बनाया गया है। 


दुर्ग में कई सुरंगें भी बनी हुई है। इस सुरंगों को इस्तेमाल लड़ाई के समय में या किसी मुश्किल की घड़ी में किया जाता था। पर्यटकों को इन सुरंगों में जाने नहीं दिया जाता है। इसका सब से बड़ा कारण, इन सुरंगों के रास्ते की सही जानकारी का ना होना है। किले के अंदर कई महल भी स्थित है। जिनमें रानी महल, फूल महल सब से प्रमुख है। भीम बुर्ज के नाम से बहुत बड़ा गढ़ भी स्थित है। इस गढ़ में पानी का  भण्डारण बहुत बड़े स्तर पर किया जाता था। 



प्रवेश समय और शुल्क (Entry And Charges)


सैलानियों के लिए गर्मियों में सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक खुला रहता है। सर्दियों के दिनों में सुबह 9 बजे से 5 बजे खुला रहता है। भारतीय लोगों के लिए 80 रुपए और विदेशी लोगों के लिए 500 रुपए प्रति व्यक्ति शुल्क लिया जाता है। 12 साल के कम उम्र के बच्चों के लिए कोई शुल्क नहीं है। दुर्ग की वीडियो बनाने के लिए अलग से शुल्क वसूला जाता है। 




यह भी पढ़े - भारत देश में ऐतिहासिक किले, जो दुनिया भर में प्रसिद्ध है


कुछ जरूरी बातें (Some Important Things)  


किले के अंदर पानी की सुविधा नहीं है, इसलिए पानी बाहर से अपने साथ जरूर ले कर जाए। दुर्ग में प्रवेश करने के लिए चढ़ाई चढ़नी पड़ती है। अपने साथ हल्का खाने के लिए भी ले कर जाए। बच्चों को चढ़ते और उतरते समय खास ख्याल रखे। बहुत ज्यादा गर्मी में घूमने से बचे। 



आस पास घूमने वाले स्थान (Near Tourist Places)


अजमेर (Ajmer) शरीफ दरगाह, अढ़ाई दिन का झोंपड़ा, अकबर महल, नारौली जैन मंदिर, सोनी जी की नसियां और सांभर झील इसके निकट घूमने के लिए बहुत ही सुन्दर स्थान है। 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया कमेंट बॉक्स में कोई भी स्पैम लिंक न डालें।

अहमदाबाद गुजरात भारत के पर्यटन स्थल के बारे में विस्तार सहित जानकारी

अहमदाबाद (Ahmedabad) गुजरात का बहुत ही सुन्दर शहर है। यह पहले गुजरात की राजधानी हुआ करता था। इसको कर्णावती नाम से भी पहचाना जाता है। साबरमती...