कैंडी (Kandy) श्री लंका (Sri Lanka) के खूबसूरत पर्यटन स्थल के बारे में जानकारी


भारत की दक्षिण दिशा में श्री लंका (Sri Lanka) देश स्थित है। श्री लंका का हर राज्य अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। कैंडी (Kandy) नाम का राज्य विशेष रूप से जाना जाता है। दुनिया भर से बहुत बड़ी संख्या में सैलानी इस देश में घूमने के लिए आते है। साल 1988 में ही इस राज्य को यूनेस्को (UNESCO) ने विश्व धरोहर की सूचि में शामिल कर लिया था। यह धार्मिक और प्राकृतिक नज़र से पर्यटन स्थल  (Tourist place) बहुत ही महत्वपूर्ण है। 



कहा जाता है कि इस राज्य कि स्थापना 15 शताब्दी के करीब हुई थी। इसकी स्थापना गम्पोला के राजा विक्रमबाहु के द्वारा हुई थी। राजा विमलधर्मसूर्य प्रथम 16 शताब्दी में इसकी कमान को सँभाला था। इन्होंने दो बार पुर्तगाली सेना को नाकों तले चने चबवाए थे। राजा प्रथम ने द सेक्रेड टूथ रेलिक नाम के मंदिर की स्थापना भी की थी। वर्ष 1815 में अंग्रेजों ने इस पर अपना अधिकार जमा लिया था। आइए आज हम आप को कैंडी (Kandy) श्री लंका (Sri Lanka) के पर्यटन स्थल के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी (Information) देने जा रहे है। 



कनखलेस रेंज मतले (Knuckles Range Matale)


कनखलेस रेंज मतले को "दुम्बारा कंडुवतिया" के नाम से भी जाना जाता है। इस पहाड़ में 34 चोटियां शामिल है। यहाँ की खूबसूरत चोटियों को देख कर हर कोई अचंभित रह जाता है। कनखलेस रेंज मतले चोटियों की समुद्र तल से ऊँचाई 900 से लेकर 2000 मीटर तक है। मॉउन्टन ट्रैकिंग के शौकीन लोगों के लिए स्वर्ग से कम नहीं है। 



पिनावाला हाथी अनाथालय (Pinnawala Elephant Orphanage)


सैलानियों के लिए पिनावाला हाथी अनाथालय बहुत ही सुन्दर जगह है। यहाँ पर एशिया के सब से ज्यादा जंगली हाथी देखने को मिलते है। परिवार के साथ एक दिन बिताने के लिए बहुत ही बढ़िया स्थान है। इस अनाथालय को वर्ष 1975 में बनाया गया था। इसको बनाए का सारा श्रेय श्री लंका (Sri Lanka) के जंगल विभाग को जाता है। 


यहाँ पर अनाथ हाथियों के साथ, उन हाथियों को भी रखा जाता है, जिन्हें किसी प्रकार की चोट या शारीरिक रूप से अपंग हो। हाथी अनाथालय के अधिकारियों के द्वारा पूरी सुरक्षा के साथ सैलानियों को इन हाथियों के साथ खेलने की सुविधा प्रदान करवाई है। यह घूमने के लिए वाकई में बहुत ही मजेदार जगह है। 



मदुरै ओए राष्ट्रीय उद्यान (Maduru Oya National Park )


मदुरै ओए राष्ट्रीय उद्यान में प्रमुख रूप से एशिया के हाथी देखने को मिलते है। इस उद्यान में अन्य जीव जंतु भी देखने को मिलते है। यहाँ पर पर्यटकों को बौद्ध धर्म से सम्बन्धित खंडर भी देखने को मिलते है। वर्ष 1983 में मदुरै ओए राष्ट्रीय उद्यान की स्थापना की गयी थी। प्रकृति प्यार करने वाले लोगों के लिए बहुत ही बढ़िया स्थान है।



द सेक्रेड टूथ रेलिक (The Sacred Tooth Relic Temple)


द सेक्रेड टूथ रेलिक मंदिर बौद्ध धर्म से सम्बन्ध रखता है। यह मंदिर कैंडी झील की उत्तर दिशा में स्थापित है। पर्यटकों के देखने लिए इस मंदिर में महावीर बौद्ध का दाँत है। यह बहुत ही शांत जगह है। हर किसी के मन को बहुत ज्यादा शांति मिलती है। द सेक्रेड टूथ रेलिक मंदिर की हर दीवार में छोटी छोटी खिड़की बनाई गयी है। इन खिड़कियों में लोग नारियल तेल से भरे दीप जलाते है। रात में इन दीपों का प्रकाश चारों और बहुत ही सुंदर दृश्य को बनाता है। 



सीलोन चाय संग्रहालय (Ceylon Tea Museum)


साल 1925 में सीलोन चाय संग्रहालय को बनाया गया था। जब इसे बनाया गया था, उस समय इसे हंताना के नाम से जाना जाता था। हंताना एक चाय बनाने वाला कारखाना था। जिसे बाद में साल 1988 में एक संग्रहालय के बदल दिया गया। यह संग्रहालय कैंडी (Kandy) नगर से करीब 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 



गिरगामा चाय बागान (Giragama Tea Plantation)


गिरगामा चाय का बागान चाय की खेती के साथ, प्राकृतिक दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण है। यह बागान एक गांव में स्थित है। यहाँ हर साल बहुत ज्यादा सैलानी घूमने के लिए आते है। वह एक भी मौका नहीं खोते है, फोटो खींचने का। 




कैंडी राष्ट्रीय संग्रहालय  (Kandy National Museum)


वर्ष 1942 में कैंडी राष्ट्रीय संग्रहालय की स्थापना की गयी थी। इसमें श्री लंका की 5000 साल पुरानी पांडुलिपियां के साथ कलाकृतियों को संभाल कर रखा गया है। इतिहास में रुचि रखने वाले लोगों के बहुत ही अच्छा स्थान है। इस संग्रहालय को पहले सिर्फ शाही लोगों के रहने के उपयोग में लाया जाता था। इसे पहले पल्ले वाला के नाम से जाना जाता था। 



श्री महा बोधि विहारया (Sri Maha Bodhi Viharya )


श्री महा बोधि विहारया बहुत ही मनमोहक बोध मंदिर है। यहाँ पर भगवान बुध की बहुत ही विशाल मूर्ति को स्थापित किया गया है। इस मंदिर को बिग बुद्धा (बिग Buddha) या बहिरवाकंद विहार बुद्ध (Bahirawakanda Vihara Buddha Statue) के नाम से भी पहचाना जाता है। इस मंदिर की सुंदरता हर किसी को अपनी तरफ खींचने का कार्य करती है। 



लंकातिलक मंदिर (Lankatilaka Temple) 


इतिहासकारों के अनुमान अनुसार 14 वी शताब्दी में लंकातिलक मंदिर का निर्माण हुआ था। इस मंदिर का इतिहास गम्पोला से जुड़ा हुआ है। लंकातिलक मंदिर की वास्तुकला को देख कर पर्यटक बहुत ज्यादा हैरान रह जाते है। कैंडी (Kandy) जाने वाले पर्यटक इस मंदिर को देखने के लिए जरूर जाते है। यह मंदिर बौद्ध धर्म के विस्तार को दर्शाता है।  



बोटैनिकल उद्यान (Botanical Garden)


बोटैनिकल उद्यान कैंडी नगर से करीब 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस उद्यान में अनुमानित 4000 से ज्यादा वनस्पति देखने को मिलती है। इसके वातावरण को देख कर पर्यटक आनंदित हो जाते है। फूलों की खुशबु चारों तरफ फैली रहती है। यहाँ पर किसी भी फूल को तोड़ने की सख्त मनाही है। यह बच्चों के लिए बहुत ही बढ़िया स्थान है।  



रॉयल महल (Royal Palace)


14 वी सदी में रॉयल महल का निर्माण राजा विक्रम बाहु के द्वारा करवाया गया था। इसकी सुंदरता का हर कोई दीवाना है। सैलानियों को शाही चीज़ों के साथ, राजा बाहु के जीवन के बारे में बहुत कुछ जानने को मिलता है। यह महल कैंडी नगर की उत्तर दिशा में बना हुआ है। 



अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध संग्रहालय (World Buddhist Museum)


अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध संग्रहालय में श्री लंका (Sri Lanka) देश के बारे में बहुत सारी जानकारी जमा है। इसमें सांस्कृतिक और प्राकृतिक जानकारी राखी गयी है। किसी समय टूथ राष्ट्रीय संग्रहालय, मंदिर के साथ इसमें शाही निवास भी हुआ करता था। इस संग्रहालय में 17 दूसरे देशों के बारे में जानने का अवसर प्राप्त होता है। इतिहास में रुचि रखने वाले लोगों के अच्छा स्थान है।  



कैंडी झील (Kandy Lake)


परिवार के साथ एक दिन बिताने के लिए कैंडी झील बहुत बढ़िया स्थान है। यह झील शाही महल के साथ शाही बाग़ के साथ जुडी हुई है। लोग दूर दूर से इसके प्राकृतिक नज़ारों के साथ, किश्ती में बैठने का मजा लेने के लिए आते है। यहाँ का वातावरण बहुत ही शांत है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कृपया कमेंट बॉक्स में कोई भी स्पैम लिंक न डालें।