सोमवार, 18 जनवरी 2021

अफ्रीका (Africa) के मशहूर (Famous) राष्ट्रीय उद्यान (National Park) के बारे में जानकारी (Information)

जंगली जीवों को हर कोई देखना पसंद करता है। इनको देखने के लिए लोग दूसरे देशों में भी घूमने के लिए जाते है। दुनिया में सब से अनोखे जंगली जीव अफ्रीका के जंगलों में देखने को मिलते है। इन जंगलों में जा कर ऐसा लगता है कि हम जैसे पुराने युग में आ गए हो। यहाँ पर सैलानियों को शेर, चीता, हाथी, तेंदुआ, गैंडा और जिराफ जैसे कई जंगली जीव देखने को मिलते है। आइए आज हम बात करते है, अफ्रीका (Africa) के मशहूर (Famous) राष्ट्रीय उद्यान (National Park) के बारे में जानकारी (Information)। 



ज्वालामुखी राष्ट्रीय उद्यान (Volcanoes National Park)


ज्वालामुखी राष्ट्रीय उद्यान अफ्रीका के रवांडा में स्थित है। यहाँ पर पहाड़ी गोरिल्ला जानवर प्रजाति को लुप्त होने से बचने के लिए रखा गया है। जीव वैज्ञानिक डियोन फोसी ने वर्ष 1967 में कराओके अनुसंधान केंद्र को स्थापित किया था। डियोन ने पहाड़ी गोरिल्ला को बचाने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाए थे। सैलानियों को गोरिल्ला के अलावा सुनहरे बंदर, हाथी, बुशबक, भैंस, हिनेस और कई प्रकार की पक्षी प्रजातियां देखने को मिलती है। ज्वालामुखी राष्ट्रीय उद्यान रवांडा की राजधानी कीगली से करीब 2 घंटे की दूरी पर स्थित है।  



त्सावो राष्ट्रीय उद्यान (Tsavo National Park)


त्सावो राष्ट्रीय उद्यान केन्या में स्थित है। यह इसका सब से बड़ा उद्यान है। केन्या में यहीं सब से ज्यादा हाथी पाए जाते है। सैलानियों के लिए च्युलु हिल्स नेशनल पार्क, मजीमा स्प्रिंग्स, चाइमु क्रेट, न्गुलिअ राइनो अभयारण्य, रॉक क्लिंबिंग और त्सवो पूर्व बहुत अच्छे स्थान है। त्सवो पार्क में पर्यटकों को बहुत ही खूंखार जानवर देखने को मिलते है। 


इसके कुछ हिस्से बहुत ज्यादा गर्म है। कुछ लोग पक्षियों का शिकार करने के लिए आते है। यट्ठा पठार दुनिया का सब से लम्बा गर्म लावा इसी स्थान पर बहता है। जहरीले साँप भी देखने को मिलते है। इन साँपों से सावधान रहने की जरूरत होती है। कुछ जगह में इतने ज्यादा पेड़ है कि पर्यटकों को आसमान देखना मुश्किल हो जाता है। 



मासाई मारा राष्ट्रीय पार्क (Masai mara National Park)


मासाई मारा राष्ट्रीय पार्क केन्या में स्थित है। इस उद्यान को देखने के लिए दुनिया के हर कोने से लोग आते है। यहाँ पर शेर, चीता और तेंदुआ देखने को मिलते है। सैलानियों को सब से जीव जुलाई से अक्तूबर के बीच के समय में देखने को मिलते है। मारा नदी इसकी सुंदरता को बढ़ाता हुआ नज़र आता है। बादाम के पेड़ भी बहुत बड़ी तादाद में देखने को मिलते है। 



कालगगाडी पार्क (Kgalagadi National Park)


कालगगाड़ी पार्क बोत्सवाना के जेम्सबोक राष्ट्रीय उद्यान और दक्षिण अफ्रीका के कालाहारी जेम्सबोक राष्ट्रीय उद्यान को मिलकर बनाया गया है। इसे कालाहारी के नाम से भी जाना जाता है। पर्यटकों को सब से ज्यादा शेर के साथ चीता, तेंदुआ और हाइना जैसे कई और जानवर भी देखने को मिलते है। यहाँ पर पक्षियों को बहुत सारी किस्मों को देखने का अवसर मिलता है। कालगगाड़ी बहुत ज्यादा घना जंगल नहीं है। 



सेरेनेगी राष्ट्रीय पार्क (Serengeti National Park)


तंजानिया के जंगल दुनिया भर में मशहूर (Famous) है। इनमें सेरेनेगी राष्ट्रीय पार्क बहुत ज्यादा मशहूर है। यहाँ पर बहुत बड़ी मात्रा में बादाम के पेड़ भी देखने को मिलते है। यहाँ पर पर्यटकों को बहुत बड़ी संख्या में जंगली जीव देखने को मिलते है। इस पार्क में घूमने का सब से बढ़िया समय दिसंबर से जुलाई तक का होता है। जून से अक्तूबर का समय बहुत ज्यादा गर्म होता है। सेरेनेगी पार्क जंगल के वन्यजीवों के प्यार को दिखाने वाला है। 



दक्षिण लुआंगवा राष्ट्रीय पार्क (South Luangwa National Park)


दक्षिण लुआंगवा राष्ट्रीय पार्क जाम्बिया में स्थित है। यहां पर बहुत बड़ी संख्या में वन्य जीव देखने को मिलते है। इसकी लुआंगवा नदी घाटी जंगली जीवों के लिए सब से ज्यादा जानी जाती है। नवंबर से मार्च तक का समय बरसाती मौसम होता है। इस समय बहुत ही सुन्दर प्राकृतिक दृश्य देखने को मिलते है। हिप्पो,मगरमच्छ, शेर, हाथी, चीता और जंगली भैसें देखने को मिलती है। इस जंगल पैदल चलकर देखने का मजा ही अलग है।  




नोरोरोंगोरो राष्ट्रीय उद्यान (Ngorongoro National Park)


नोरोरोंगोरो राष्ट्रीय उद्यान में तीन ज्वालामुखी के केंद्र स्थित है। इस उद्यान में बहुत बड़े बड़े जंगल और झाड़ियां स्थित है। इसकी 8300 वर्ग किलोमीटर से ज्यादा है। यहाँ पर लोग मवेशियों को चराने के लिए लाते है। वही दूसरी तरफ जंगली जानवर जैसे शेर, जंगली कुत्ते, चीते, जंगली भैंस और तेंदुए देखने को मिलते है। नोरोरोंगोरो पार्क इंसान और जंगली जानवरों को एक स्थान पर जोड़ने का काम करता है।



एटोशा राष्ट्रीय उद्यान (Etosha National Park)


एटोशा राष्ट्रीय उद्यान में संसार की दुर्लभ जीव प्रजाति देखने को मिलती है। इनमें काले चेहरे वाले इंपला, काले गैंडे, ऑरिक्स और टेस्सेबे प्रमुख है। इस उद्यान में बहुत बड़ी संख्या में कई तरह के पक्षी देखने को भी मिलते है। सैलानियों के घूमने के लिए जून से नवंबर तक का समय बहुत अच्छा होता है। इन महीनों में बहुत ज्यादा गर्मी होती है। गर्मी ज्यादा होने के कारण पानी बहुत कम मात्रा में, कहीं कहीं मिलता है। जहाँ पानी होता है, उसके आस पास ही जानवर देखने को मिलते है। 



अम्बोसेली राष्ट्रीय उद्यान (Amboseli National Park)


अम्बोसेली राष्ट्रीय उद्यान अफ्रीका के सब से पहाड़ माउंट किलिमंजारो पर स्थित है। इस उद्यान में सब से ज्यादा हाथी बहुत बड़ी तादाद में देखने को मिलते है। यहाँ पर बहुत ज्यादा पेड़, दलदल के साथ झील को देखने का मौका मिलता है। जंगली जानवरों के साथ 600 किस्म के पक्षी भी देखने को मिलते है। यह उद्यान मासाई मारा के बाद सब से ज्यादा प्रसिद्ध पार्क है। अम्बोसेली राष्ट्रीय उद्यान के निकट ही मसाई गांव है। इस गांव में आदिवासी जनजाति रहती है। सैलानियों को इनके जीवन के रहन सहन का पता चलता है। 



क्रुगर नेशनल पार्क (Kruger National Park)


क्रुगर नेशनल पार्क सैलनियों को विचित्र जीवों से मिलाने का कार्य करता है। यह पार्क अफ्रीका (Africa) का सब से पुराना उद्यान है। इसका क्षेत्रफल 2 मिलियन हेक्टेयर है। सैलानी इस उद्यान की खुद सवारी कर के जीवों को देखने का आनंद ले सकते है। पर्यटकों को पुरातात्विक स्थान भी देखने को मिल सकते है। इस पार्क की जमीन घने जंगलों के साथ, बहुत ज्यादा उपजाऊ भी है। इसमें बहुत बड़ी संख्या में जंगली जीव देखने को मिलते है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया कमेंट बॉक्स में कोई भी स्पैम लिंक न डालें।

अहमदाबाद गुजरात भारत के पर्यटन स्थल के बारे में विस्तार सहित जानकारी

अहमदाबाद (Ahmedabad) गुजरात का बहुत ही सुन्दर शहर है। यह पहले गुजरात की राजधानी हुआ करता था। इसको कर्णावती नाम से भी पहचाना जाता है। साबरमती...