बुधवार, 2 दिसंबर 2020

जानिए लुधिआना शहर की ऐतिहासिक विरासत के बारे में


भारत के प्रमुख राज्यों में पंजाब (Punjab) का नाम सब से पहले आता है। पंजाब के लोग सब से ज्यादा खेती करते है। खेती के अलावा इस राज्य में कई तरह उद्योग भी स्थापित है। सब से ज्यादा कल कारखाने लुधिआना में स्थित है। यहाँ पर दूसरे राज्यों के लोग भी बहुत बड़ी संख्या में काम करने के लिए आते है। यह शहर अपनी सुंदरता के लिए भी पूरे देश में बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है। लोधी वंश के नाम पर 1480 में इस शहर की स्थापना की गयी थी। आइये आज हम बात करते है लुधिआना (Ludhiana) शहर में घूमने वाले स्थानों (Tourist places) के बारे में विस्तार सहित। 






लोधी किला (Lodi Fort)


लुधिआना में लोधी किला बहुत ही प्रसिद्ध है। इस किले को देखने के लिए देश के कोने कोने से लोग आते है। यह किला लोधी वंश और महाराजा रणजीत सिंह के गौरवान्वित जीवन पर प्रकाश डालता है। पंजाब सरकार ने इस किले पर ध्यान नहीं दिया, जिसके चलते इसकी हालत दिन प्रति दिन ख़राब होती जा रही है। लोधी किले का निर्माण बहुत ही सीधे रूप से किया है। इस किले का पता शिव पुरी रोड, क़िला मोहल्ला, निकट छावनी मोहल्ला, लुधिआना है।



रायपुर ग्रामीण ओलंपिक खेल (Raipur Village Olampic Games)


रायपुर लुधिआना (Ludhiana) शहर से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह एक छोटा सा गांव होने बावजूद खेलों और सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए जाना जाता है। यहाँ पर होने वाले खेलों को रायपुर ग्रामीण ओलम्पिक खेलों के नाम से जाना जाता है। ग्रामीण ओलम्पिक खेल हर साल फ़रवरी में सिर्फ तीन दिन के लिए आयोजित किए जाता है। इन खेलों को देखने के लिए लोग दूर दूर से आते है। इसमें कई तरह के खेल खेले जाते है। इन खेलों में बहुत बड़े बड़े कलाकार अपनी कलाकारी से लोगों को लुभाते हुए भी नज़र आते है। 


फिल्लौर किला (Phillaur Fort)


फिल्लौर पंजाब (Punjab) का बहुत ही सुन्दर छोटा सा शहर है। यहाँ पर स्थित फिल्लौर किला शहर की खूबसूरती को चार चाँद लगता है। इस किले का निर्माण महाराजा रणजीत सिंह के सेनापति दीवान मोहकम चाँद द्वारा बनाया गया था। इस किले की वास्तुकला को देख कर हर कोई हैरत में पड़ जाता है। इस किले को महाराजा रणजीत सिंह किले के नाम से भी जाना जाता है। मुग़ल बादशाह शाहजांह ने पहले इस स्थान पर एक सराय बनवाई थी, जिसे बाद में महाराजा ने किले में बदल दिया।  



गुरुदवारा मंजी साहिब (Guruduwara Manji Sahib) 


गुरुदवारा मंजी साहिब लुधिआना शहर से करीब 10 किलोमीटर दूर गांव आलमगीर में स्थित है। इस गुरुदुवारे का सम्बन्ध सिखों के दसवें गुरु गुरु गोबिंद सिंह जी से है। मुग़ल सेना गुरु गोबिंद सिंह जी का पीछा कर रही थी तो, उन्होंने इस स्थान पर आराम किया था। मंजी साहिब में लंगर की सेवा सुबह से देर रात तक चलती रहती है। यहाँ पर हर धर्म के लोग आ सकते है। 



युद्ध संग्रहालय (War Museum) 


महाराजा रणजीत सिंह के समय में होने वाले युद्धों में और कारगिल के लड़ाई में प्रयोग किए गए शस्त्रों को यहाँ पर रखा गया है। यह लुधिअना के सब से ज्यादा घूमने वाले स्थानों (Tourist places) में से एक है। जिन लोगों को कारगिल की लड़ाई के इतिहास के बारे में जानना हो तो, वह जरूर इस युद्ध संग्रहालय को देखने के लिए आये।



टाइगर सफारी (Tiger Safari) 


टाइगर सफारी पर्यटकों के लिए बहुत ही बढ़िया स्थान है। यहाँ पर सैलानियों को टाइगर के साथ काले हिरन, खरगोश, सांभर, मोर और कई प्रकार के जानवर और पंछी देखने को मिलते है। यह बच्चों के लिए बहुत ही बढ़िया स्थान है। 



यह भी पढ़े:- जंग ए आजादी स्मारक करतारपुर जलंधर पंजाब के बारे में विस्तार सहित जानकारी 


हार्डी वर्ल्ड (Hardy World) 


फिल्लौर के पास में ही हार्डी वर्ड स्थित है। हर उम्र के लोगों के लिए इस वाटर पार्क में कुछ ना कुछ है। रोलर कोस्टर, पेंडुलम, सुन एंड मून, पानी के कई तरह के खेल की सुविधाएं मिलती है। यहाँ पर गर्मियों में आने का मजा कुछ और ही है। यह लुधिआना (Ludhiana) शहर से सिर्फ 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। लोगों के खाने पीने के बहुत सारी चीज़ें मिलती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया कमेंट बॉक्स में कोई भी स्पैम लिंक न डालें।

अहमदाबाद गुजरात भारत के पर्यटन स्थल के बारे में विस्तार सहित जानकारी

अहमदाबाद (Ahmedabad) गुजरात का बहुत ही सुन्दर शहर है। यह पहले गुजरात की राजधानी हुआ करता था। इसको कर्णावती नाम से भी पहचाना जाता है। साबरमती...