सिर्फ पासपोर्ट और वोटर कार्ड दिखा कर घूमे इस देश में (Travel to this country only by showing passport and voter card)


आज कल हर कोई विदेश में घूमना चाहता है। विदेश जाने के लिए लोग अक्सर पैसे की कमी कर कारण सोचते नहीं है। दुनिया में बहुत सारे ऐसे देश भी है, जिन की मुद्रा भारत से बहुत ही कम है। इन देशों में बहुत बढ़िया तरीके से कम पैसों में भारतीय लोग घूम सकते है। भूटान भारत का पड़ोसी देश है। यहाँ बहुत ही कम पैसों में भारतीय लोग घूम सकते है। यह देश अपनी सुंदरता के लिए दुनिया भर में मशहूर है। आइए आज बात करते है, भूटान (Bhutan) देश के बारे में।

वीजा (Visa)

भारतीय लोगो को भूटान (Bhutan) जाने के लिए वीजा की जरूरत नहीं होती है। भारतीयों को पासपोर्ट (Passport)  के साथ, सिर्फ वोटर कार्ड (Voter card) दिखाना होता है। इन दस्तावेज़ के आधार पर ही प्रवेश की अनुमति मिल जाती है। भूटान की एयर टिकट बुक करते समय नागरिकता पूछी जाती है। गलत नागरिकता भरने पर एयर टिकट कैंसिल भी हो जाती है।


यह भी देखे- भूटान की एयर टिकट बुक करने के लिए यहाँ पर क्लिक करे 

भूटान में घूमने वाले स्थान (Bhutan tourist places)

तख्तांग मठ (Takhtang Monastery)

तख्तांग मठ पारो की घाटी में स्थित है। यह मठ एक चट्टान के साथ सटाकर बनाया गया है। इसकी ऊंचाई 3000 फुट के करीब है। भूटान में इस मठ को बहुत ज्यादा पवित्र माना जाता है। इस देश में बोध धर्म की शुरुआत इसी स्थान से हुई थी। बोध धर्म को जानने और मानने वाले लोगो के लिए यह स्थान बहुत बढ़िया है।


क्युकू ल्हाखांग (Kyuku Lhakhang)

क्युकू ल्हाखांग हिन्दू मंदिरों के लिए दुनिया भर मशहूर है। यहाँ पर बहुत बड़ी तादाद में बहुत ही सुन्दर  हिन्दू मंदिर देखने को मिलते है। इन मंदिरों में तिब्बती सभ्यता का बहुत ही सुन्दर नमूना देखने को मिलता है।

पारो दाजोंग (Paro dajong)

पारो दाजोंग दुनिया की सब से ज्यादा सुन्दर डोज में से एक है। चारों तरफ पहाड़ ही पहाड़, हरियाली को देख कर हर किसी का मन ताज़गी से भर जाता है। यह स्थान शांति से भरा हुआ है। यह उन लोगो के लिए बहुत बढ़िया है, जो कुछ दिन शांति के साथ बिताना चाहते है।


नेशनल म्यूज़ियम (National museum)

भूटान का नेशनल म्यूज़ियम पारो डांग की पहाड़ी के ऊपर स्थित है। भूटान की सभ्यता को जानने का सब से बढ़िया स्थान है। इस संग्रहालय में कांस्य की मूर्तियां और चित्रों की प्रदर्शनी लगाई गयी है। राष्टीय संग्रहालय के पास बहुत बड़ा बाजार है। इस बाजार में स्थानीय चीज़ो को बेचा जाता है। यहाँ पर रविवार वाले दिन बहुत ज्यादा भीड़ होती है।

ट्रशी चोउ झोंग (Trashie Chou Zhong)

ट्रशी चोउ झोंग वांग चुह के पश्चिम में स्थित है। यह शहर उत्सव मनाने के लिए जाना जाता है। ट्रशी चोउ झोंग में हर साल बैश, त्च्छू उत्सव बहुत बड़ा कार्यक्रम आयोजित कर मनाया जाता है। इन उत्सवों को देखने के लिए दुनिया के कोने कोने से लोग आते है।


राष्ट्रीय स्मारक चोरटेन (National Memorial Chorten)

राष्ट्रीय स्मारक चोरटेन को भूटान के तीसरे राजा जिग्मे दोरजी वांगचुक की याद में बनाया गया है। यह स्मारक तिब्बत के थिम्पू जैसा दिखाई देता है। जिग्मे दोरजी वांगचुक को भूटान का आधुनिक पिता माना जाता है। जिग्मे दोरजी ने बहुत सारे लोगो की भलाई के लिए कार्य किये थे। जिसके कारण लोग उनका आज भी बहुत सम्मान करते है।

यह भी देखे- भूटान  के लिए टूर पैकेज के लिए यहाँ पर क्लिक करे 

चंगंगखा लखांग (Changangkha Lakhang)

चंगंगखा लखांग एक पवित्र मंदिर है। इस मंदिर की आकृति एक क़िले जैसी है। इस मंदिर में बहुत बड़ी संख्या में लोग नतमस्तक होने के लिए आते है। यह मंदिर अपनी बनावट के लिए दूर दूर तक प्रसिद्ध है।

चैन्ग्मीमिथांग स्टेडियम (Chengmythang Stadium)

चैन्ग्मीमिथांग स्टेडियम में खेल और उत्सव का आयोजन किया जाता है। यहाँ पर फुटबॉल और तीरंदाजी जैसे खेल सब से ज्यादा खेले जाते है। उत्सव के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम के नृत्य के कार्यक्रम भी आयोजित किये जाते है। चैन्ग्मीमिथांग स्टेडियम में पर्यटक बहुत बड़ी संख्या में आते है।

पनाखा ज़ोंग (Panakha Zong)

पनाखा ज़ोंग बहुत ही सुन्दर जगह है। यह नदी के किनारे पर स्थित है। पनाखा जोंग में कुदरती दृश्य समय के साथ सोने जैसा, लाल, काला सूरज के प्रकाश के साथ साथ बदलता रहता है। पर्यटकों के लिए वातावरण इस स्थान का बहुत ही बढ़िया है। ठंडी ठंडी हवा किसी किसी के मन को बहुत ज्यादा शांति प्रदान करती है।

भूटान के बारे में कुछ जानकारी ( About Bhutan information)

भूटान में कई प्रकार की प्रजातियों के पक्षी और जानवर देखने को मिलते है। जीवों से प्यार करने वाले लोगो के लिए यह स्थान बहुत ही बढ़िया स्थान है। बंगाल टाइगर, सुनहरी लंगूर, स्लोथ भालू, तेंदुए विशेष रूप से देखने को मिलते है।

यहाँ पर सब से ज्यादा बौद्ध धर्म के अनुयायी रहते है। बौद्ध मंदिर बहुत बड़ी संख्या में देखे जा सकते है।

लकड़ी से बने में घरो में इस देश के लोग रहते है।

इस देश में घूमने जाने का सही समय अप्रैल से नवंबर तक का है। इस समय के दौरान कई प्रकार के उत्सव आयोजित किये जाता है। जिनको देखने के लिए लोग दूर दूर से आते है।

भुटानी नोंग्त्रुम इस देश की मुद्रा का नाम है। एक भूटानी नोंग्त्रुम एक रूपए के बराबर होता है।

यह देश विदेशी पर्यटकों से 250 डॉलर शुल्क लेता है केकिन भारतीय लोगो से किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाता है। वैसे तो भारतीय लोगो को किसी प्रकार के वीजा की जरूरत नहीं होती है फिर भी दूतावास से घूमने की परमिशन का लेटर ले लिया जाए तो बेहतर होता है।

इस देश में सिर्फ एक ही इंटरनेशनल एयरपोर्ट है।

यह भी पढ़े- तमिलनाडु में घूमने वाली जगहों के बारे में जाने 

भूटानी खाना (Bhutan food)

भूटान (Bhutan) में देशी शैली में खाना बनाया जाता है। भारतीय तड़के के साथ वेज और नॉन वेज खाना परोसा जाता है। नॉन वेज खाने वालो के लिए यह देश बहुत बढ़िया जगह है।

मुझे उम्मीद है कि आप को मेरा यह लेख पसंद आया होगा। कृपया अपने विचार कमेंट के द्वारा अवश्य दे। धन्यवाद।

मनिंदर सिंह "मनी"