बुधवार, 18 दिसंबर 2019

जेरूसलम (यीशु मसीह जन्म स्थान), इजरायल पर्यटन स्थलों की जानकारी (Jerusalem (Jesus Christ birth place), Israel tourist places information)


ईसाई धर्म में लोगों के द्वारा ईसा मशीह (Jesus Christ) को पूजा जाता है। ईसा मशीह का जन्म इसराइल (Israel) की राजधानी येरूशलम में हुआ था। येरूशलम (Jerusalem) ईसाई लोगों के साथ साथ यहूदी और मुसलमान लोगों के लिए बहुत ही पवित्र स्थान है। यह शहर डेड सागर (Dead sea) के बिलकुल समीप है। डेड सागर के पानी में बहुत ज्यादा नमक की मात्रा होने के कारण पानी पीने के योग्य भी नहीं है और ना ही किसी प्रकार का समुंदरी जीवन उत्पन्न हो सकता है। इस सागर में कोई भी नहीं डूब सकता है। 

 येरूशलम में हर साल लाखों लोग दुनिया के कोने कोने से यहाँ पर घूमने के लिए आते है। यहाँ पर बहुत बहुत बड़ी संख्या में पर्यटन स्थल है। जिनको देख कर पर्यटक बहुत ज्यादा आनंद भर जाते है। आइए आज हम बात करते है, येरूशलम के पर्यटन स्थलों (Jerusalem, Israel tourist places) के बारे में।

याद वमेश (Yad Wamesh)


"याद वमेश" स्थान को येरूशलम के जंगल भी कहा जाता है। येरूशलम (Jerusalem) के जंगल में अल अक्सा मस्जिद, प्राचीन इमारतें, डॉम ऑफ़ दा रॉक, गुंबद के साथ बहुत सुन्दर बगीचे स्थित है। याद वमेश करीब 35 एकड़ में फैला जंगल है। यह बहुत ही सुन्दर जगह है पर्यटकों के घूमने के लिए। 

टावर ऑफ़ डेविड (Tower Of David)


बुर्ज दाऊद के नाम से टावर ऑफ़ डेविड को जाना जाता है। कुछ लोग इसे दाऊद का गुंबद भी कहते है। जेरूसलम के लोगों का कहना है कि राजा सोलोमन को यहीं पर दफनाया गया था। टावर ऑफ़ डेविड के रास्ते से ही पुराने शहर में दाखिल हो सकते है। यह पर्यटकों की खास पसंद में आता है।


यह भी देखे :- हज यात्रा कहाँ और कैसे करने जाए? हज यात्रा के लिए दस्तावेज़ और कितना खर्च? 

सोलोमन मंदिर (Solomon Temple)


इसराइल (Israel) के सम्राट सोलोमन ने सोलोमन मंदिर का निर्माण करवाया था। सोलोमन मंदिर का निर्माण 10 वी शताब्दी ईसा पूर्व में हुआ था। इस मंदिर का संबंध यहूदी संप्रदाय से है। पवित्र पुस्तक बाइबल में इस मंदिर का जिक्र प्रथम प्राथनाले कह कर हुआ है। सोलोमन मंदिर को रोमन लोगो ने लड़ाई के समय पूरी तरह से नष्ट कर दिया था। यहूदी लोगों के पवित्र स्थल टेम्पल माउंट और अल अक्सा मस्जिद, डोम ऑफ़ दा रॉक सोलोमन मंदिर के स्थान पर स्थित है।


सिटी ऑफ़ डेविड (City Of David)


सिटी ऑफ़ डेविड को ओल्ड सिटी के नाम से भी जाना जाता है। ओल्ड सिटी को इसराइल (Israel) के सम्राट दाऊद के नाम पर उनके बेटे सोलोमन (Solomon) ने बसाया था। पुराने शहर के बारे में ज्यादा जानकारी जियोन पहाड़ी पर मिलती है, जहाँ पर ओल्ड सिटी के बहुत ज्यादा अवशेष देखने को मिलते है। यहाँ पर जाने के लिए जियोन गेट या दांग गेट से हो कर जाना पड़ेगा। इतिहासकारों के हिसाब से ओल्ड सिटी का इतिहास करीब 3000 साल पुराना है। जियोन गेट पर डर्मिश चर्च स्थित है, जहाँ पर सोलोमन की क़ब्र बनी हुई है।



टेम्पल माउंट (Temple Mount)


 कुछ विद्वानों के विचार अनुसार पहले आदम को ईश्वर ने इसी स्थान पर बनाया था। ईश्वर ने आदमी को बनाने के लिए यहीं पर मिट्टी को बहुत बड़ी तादाद में इकट्ठा किया था। टेम्पल माउंट का संबंध यहूदी लोगों से है। यहूदियों के लिए यह स्थान बहुत ही पवित्र जगह है। इस टेम्पल के गुंबद को सोने की परत से ढका गया है। यहाँ पर आने के लिए गोल्डन गेट से आना पर्यटकों के बहुत ही आसान रहता है।

टेम्पल माउंट को डोम ऑफ़ दा रॉक (Dom of the rock) के नाम से जाना जाता है। डोम ऑफ़ दा रॉक मुसलमानों के द्वारा इस स्थान को कहा जाता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इसी स्थान पर पहली बार मुहम्मद साहिब को नमाज पढ़ने के लिए आकाशवाणी से आदेश प्राप्त हुआ था। जिसके बाद से मुहम्मद साहब ने नमाज को पढ़ना शुरू किया। डोम ऑफ़ दा रॉक के बारे में कुछ लोगों का कहना है कि वह यह स्थान टेम्पल माउंट और अल अक्सा मस्जिद के बिलकुल बीच में होना मानते है। 

यहाँ पर्यटकों के देखने के लिए बहुत कुछ है। जिसको देखने के बाद यहाँ से जाने को मन ही नहीं करता है। अच्छे से अच्छा रेस्त्रां बहुत ही सही दाम में मिल जाता है। यह जगह कई तरह के पकवानों के लिए दुनिया भर में मशहूर है। पर्यटकों को इस थान पर आकर कई तरह के फूलों की खुशबू का आनंद उठाने का अवसर प्राप्त होता है।





अल अक्सा मस्जिद (Al Aqsa Mosque)


अल अक्सा मस्जिद येरूशलम में बहुत ही ज्यादा पवित्र स्थान है। इस स्थान को अलहरम-अलशरीफ के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ के विद्वानों का कहना है कि पैगंबर मुहम्मद साहब इस स्थान से जन्नत को चले गए थे, जहाँ से ख़ुदा का हुक्म हुआ धरती पर वापिस जाने का। अल अक्सा मस्जिद में बहुत बड़ा हॉल है और इसकी पिछली दीवार को पश्चिम की दीवार भी कहा जाता है।

चर्च ऑफ़ दा होली स्कल्प्कलचर (Church Of The Holy Sepulcher)


ईसा मसीह (Jesus Christ) के जीवन के अंतिम पल येरूशलम में बिता था, इसलिए यह स्थान ईसाई धर्म के लोगों के बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है। ईसाई धर्म के विद्वानों का विश्वास है कि ईसा मसीह फिर से येरुशलम में फिर से जन्म लेंगे। इस धर्म के मान्यता के अनुसार ईसा मसीह सात दिनों के लिए फिर से जीवित हो पड़े थे। आज इस स्थान पर चर्च ऑफ़ दा होली स्कल्प्कलचर नाम का चर्च स्थित है।

चर्च ऑफ़ डरमिनेशन (Church Of Determination)


चर्च ऑफ़ डरमिनेशन को मदर मेरी के नाम से भी जाना जाता है। वर्जिन मेरी इस चर्च का पहला नाम था। चर्च ऑफ़ डरमिनेशन जियोन गेट के बिलकुल पास में ही स्थित है। इस चर्च में मदर मैरी कि बहुत ही सुन्दर मूर्तियां देखने के लिए मिलती है। यहाँ पर कुछ ऐसे शिलालेख भी देखने को मिलते है, जिन पर हिब्रू भाषा में लिखा गया है।



विवा डोलोरोसा (Viva Dolorosa)


विवा डोलोरोसा ईसाई धर्म में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रभु ईसा मसीह को इसी स्थान पर सूली पर चढ़ा या गया था। संत स्टीफन गेट के बिलकुल पास में विवा डोलोरोसा स्थान स्थित है। यह एक रोमन कैथोलिक चर्च है। यह स्थान ओल्ड सिटी में माना जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया कमेंट बॉक्स में कोई भी स्पैम लिंक न डालें।

अहमदाबाद गुजरात भारत के पर्यटन स्थल के बारे में विस्तार सहित जानकारी

अहमदाबाद (Ahmedabad) गुजरात का बहुत ही सुन्दर शहर है। यह पहले गुजरात की राजधानी हुआ करता था। इसको कर्णावती नाम से भी पहचाना जाता है। साबरमती...