गुरुवार, 5 दिसंबर 2019

भगवान राम के भारत में 15 मंदिरो की जानकारी (Information about 15 temples of Lord Rama in India)


हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान विष्णु के सातवें अवतार का नाम भगवान राम था। भगवान राम का जन्म त्रेता युग में हुआ था। हिन्दू धर्म को मानने वाले लोग राम को मर्यादा पुरुषोत्तम राम कहते है। भारत देश में भगवान राम के नाम कई मंदिर है। जहाँ पर जा कर भक्त अपने मन की मनोकामना के पूर्ण होने की प्रार्थना करते है। आइए आज हम बात करते है ऐसे ही भगवान राम के नाम पर बने प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में (God Ram Famous temples)। 




अयोध्या मंदिर (Ayodhya Temple)


भगवान राम का जन्म उत्तर प्रदेश के अयोध्या शहर में हुआ था। यह प्राचीन अयोध्या मंदिर मंदिर सरयू नदी के तट पर स्थित है। अयोध्या का यह मंदिर भारत के सब से प्राचीन मंदिरों में से एक है। हिन्दू धर्म को मानने वाले लोगों के लिए अयोध्या मंदिर बहुत ही महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है।




कैलाश मानसरोवर की यात्रा कैसे करे? 


सीता रामचन्द्रस्वामी मंदिर (Sita Ramachandraswamy)


भारत के तेलंगाना राज्य में सीता रामचन्द्रस्वामी मंदिर स्थित है। सीता रामचन्द्रस्वामी मंदिर गोदावरी नदी के तट पर स्थित है। यह मंदिर करीब 400 साल पुराना है। यह बहुत ही सुन्दर मंदिर है। इस मंदिर में आने वाले भक्त खुद बा खुद इस मंदिर की तरफ आकर्षित हो जाते है। इस मंदिर में मुख्य तौर एकादशी, राम नवमी जैसे उत्सव बड़ी ही धूमधाम के साथ मनाए जाते है।




राम राजा मंदिर (Ram Raja Temple)


भारत का एकमात्र मंदिर जहाँ राम को भगवान नहीं राजा मान कर पूजा जाता है। इस मंदिर का नाम राम राजा मंदिर है। राम राजा मंदिर मध्य प्रदेश के एक छोटे से शहर ओरछा में स्थित है। झांसी रेलवे स्टेशन से करीब 13 किलोमीटर की दूरी पर राम राजा मंदिर स्थित है। सीता, लक्ष्मण, सुग्रीव, भगवान नरसिंहा की मूर्तियां भी स्थित है।





रामास्वामी मंदिर (Ramaswamy Temple)


16 वीं शताब्दी में बने रामास्वामी मंदिर की सुंदरता को देख कर हर कोई हैरान रह जाता है। इस मंदिर के पत्थरों पर बहुत ही सुन्दर मीनाकारी की गयी है। रामा स्वामी मंदिर में तमिल पंगुनी महीने में राम नवमी का आयोजन किया जाता है। राम नवमी का उत्सव यहाँ पर बड़ी धूम धाम के साथ आयोजित किया जाता है। यह मंदिर दक्षिण में स्थित तमिलनाडु के कुम्भकोणम शहर में स्थित है। इस मंदिर का निर्माण 400 साल पहले किया गया था।




त्रिप्रायर श्री राम मंदिर (Triprayar Sri Ram Mandir)


भगवान राम (God Ram) की पूजा त्रिप्रायर थेवर के रूप में पूजा त्रिप्रायर श्री राम मंदिर में की जाती है। त्रिप्रायर श्री राम मंदिर केरल के त्रिशूर में स्थित है। यह मंदिर बहुत ही सुन्दर है।




यह जरूर पढ़े- माँ वैष्णों देवी की यात्रा कैसे करे?



कालाराम मंदिर (Kalaraam Temple)


महाराष्ट्र के नासिक शहर के पंच वटी क्षेत्र में स्थित है। इस मंदिर में सब से खास बात यह है कि मूर्ति का रंग काला है। मूर्ति का रंग काला होने कि वजह से इस मंदिर को काला राम मंदिर कहा जाता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यह भगवान राम की काले रंग की मूर्ति पवित्र गोदावरी नदी में से मिली थी। इस मूर्ति के दर्शन के लिए हर साल लाखों की तादाद में राम भक्त काला राम मंदिर में नतमस्तक होते है।




कोदंडारामास्वामी मंदिर (Kondanda Ramaswamy Temple)


भारत के कर्नाटक जिले के चिक्क्मांगलूरु के हिल स्टेशन में कोंडारामास्वामी मंदिर स्थित है। कोंडारामास्वामी मंदिर राम मंदिरों में सब से ज्यादा प्रसिद्ध मंदिर है। बंगलौर से करीब 250 किलोमीटर की दूरी पर यह मंदिर स्थित है। इस मंदिर में राम के भाई लक्ष्मण को एक तीर पकड़े हुए दिखाया गया है।




श्री राम तीर्थ मंदिर (Sri Ram Tirath Temple)


भारत के पंजाब राज्य के अमृतसर शहर में श्री राम तीर्थ मंदिर स्थित है। हिन्दू धर्म के महाकाव्यों के हिसाब से यहाँ पर ऋषि वाल्मीकि जी का आश्रम था। जहाँ पर सीता जी ने लव और कुश को जन्म दिया था। श्री राम तीर्थ मंदिर की वास्तु कला तीर्थ यात्रियों को मन मोहित आसानी से कर लेती है। नवंबर के महीने में राम तीर्थ मेला लगता है। राम तीर्थ मेले में बहुत ज्यादा राम भक्तों की भीड़ होती है। राम तीर्थ मंदिर में यह उत्सव चार दिन चलता है।




विराट रामायण मंदिर (Viraat Ramayan Temple)


भारत के बिहार राज्य के पटना शहर में विराट रामायण मंदिर स्थित है। यह मंदिर अभी बन रहा है, जब यह मंदिर पूर्ण रूप से तैयार हो जायेगा तो दुनिया का सब से बड़ा मंदिर होगा। विराट रामायण मंदिर के आगे कंबोडिया देश का अंगकोर वात मंदिर भी छोटा पड़ जायेगा। इस मंदिर के हॉल में करीब 20000 लोगों के बैठने व्यवस्था की गयी है।



राम मंदिर (Ram Temple)


ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर के खारवेल नगर में राम मंदिर स्थित है। राम मंदिर में लाखों की संख्या में राम भक्त इस मंदिर में भगवान के दर्शन के लिए यहाँ पर आते है। इस मंदिर की सुंदरता लोगों के दिल में सीधे ही उतर जाती है।



राम वन मंदिर (Ram Van Temple)


मध्य प्रदेश के सतना जिले में रामवन मंदिर स्थित है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यहाँ पर पहले अत्रि सतना नाम का आश्रम हुआ करता था। उस समय भगवान राम यहाँ पर आए थे। जिनके आने के बाद यह जगह पवित्र हो गयी, जिसके बाद गांव वालों ने यहाँ पर मंदिर का निर्माण करवा दिया। "लक्ष्मण बोंगरा" और सीता बोंगरा नाम कि दो गुफाएं भी यहाँ पर स्थित है।



रामटेक मंदिर (Ramtek Temple)


महाराष्ट्र के नागपुर शहर से करीब 57 किलोमीटर दूर रामटेक नाम का मंदिर स्थित है। स्थानीय लोगों के कथन के हिसाब से यहाँ पर भगवान राम (God Ram) करीब चार महीने के लिए ठहरे थे। इन चार महीनों के दौरान राम ने दैवीय शास्त्रों का ज्ञान के साथ ब्रह्मास्त्र को प्राप्त किया था।




चित्रकूट मंदिर (Chitrakoot Temple)


हिन्दू धर्म के अनुसार चित्रकूट एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। गंगा यमुना नदी को पार कर के वह भगवान राम अपने भाई लक्ष्मण और सीता के साथ चित्रकूट आये थे।  यहाँ पर अनुसूया आश्रम में वह कई महीने रहे थे। प्रयाग में चित्रकूट को बहुत ही पवित्र स्थान मन जाता है।




रघुनाथ मंदिर (Raghunath Temple)


महाराजा गुलाब सिंह जी ने 1833 में रघुनाथ मंदिर का निर्माण शुरू करवाया था और महाराजा रणजीत सिंह के समय में इस मंदिर का कार्य पूरा हुआ था। यह मंदिर जम्मू कश्मीर में स्थित है। इस मंदिर की अंदर की तीन दीवारों पर सोने की पार्टी चढ़ी हुई है। रघुनाथ मंदिर के आस पास कई देवी देवताओं के मंदिर भी स्थित है।




रामचौरा मंदिर (Ramchaura Temple)


बिहार राज्य में हाजीपुर के निकट पड़ते छोटे से कस्बे रामभद्र में रामचौरा मंदिर है। इस मंदिर में भगवान राम (God Ram) के चरणों की पूजा की जाती है। स्थानीय लोगों के कथन अनुसार रामचौरा मंदिर रामायण काल से स्थित है। राम नवमी का उत्सव इस मंदिर में बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया कमेंट बॉक्स में कोई भी स्पैम लिंक न डालें।

अहमदाबाद गुजरात भारत के पर्यटन स्थल के बारे में विस्तार सहित जानकारी

अहमदाबाद (Ahmedabad) गुजरात का बहुत ही सुन्दर शहर है। यह पहले गुजरात की राजधानी हुआ करता था। इसको कर्णावती नाम से भी पहचाना जाता है। साबरमती...