जानिए लुधिआना (Ludhiana) शहर की ऐतिहासिक विरासत के बारे में


भारत के प्रमुख राज्यों में पंजाब (Punjab) का नाम सब से पहले आता है। पंजाब के लोग सब से ज्यादा खेती करते है। खेती के अलावा इस राज्य में कई तरह उद्योग भी स्थापित है। सब से ज्यादा कल कारखाने लुधिआना में स्थित है। यहाँ पर दूसरे राज्यों के लोग भी बहुत बड़ी संख्या में काम करने के लिए आते है। यह शहर अपनी सुंदरता के लिए भी पूरे देश में बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है। लोधी वंश के नाम पर 1480 में इस शहर की स्थापना की गयी थी। आइये आज हम बात करते है लुधिआना (Ludhiana) शहर में घूमने वाले स्थानों के बारे में विस्तार सहित। 



यह भी पढ़े - हरमिंदर साहिब सिखों के लिए सब से पवित्र स्थान  

लोधी किला (Lodi fort)

लुधिआना में लोधी किला बहुत ही प्रसिद्ध है। इस किले को देखने के लिए देश के कोने कोने से लोग आते है। यह किला लोधी वंश और महाराजा रणजीत सिंह के गौरवान्वित जीवन पर प्रकाश डालता है। पंजाब सरकार ने इस किले पर ध्यान नहीं दिया, जिसके चलते इसकी हालत दिन प्रति दिन ख़राब होती जा रही है। लोधी किले का निर्माण बहुत ही सीधे रूप से किया है। इस किले का पता शिव पुरी रोड, क़िला मोहल्ला, निकट छावनी मोहल्ला, लुधिआना है।



रायपुर ग्रामीण ओलंपिक खेल (Raipur village olampic games)

रायपुर लुधिआना (Ludhiana) शहर से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह एक छोटा सा गांव होने बावजूद खेलों और सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए जाना जाता है। यहाँ पर होने वाले खेलों को रायपुर ग्रामीण ओलम्पिक खेलों के नाम से जाना जाता है। ग्रामीण ओलम्पिक खेल (Olampic games) हर साल फ़रवरी में सिर्फ तीन दिन के लिए आयोजित किये जाता है। इन खेलों को देखने के लिए लोग दूर दूर से आते है। इसमें कई तरह के खेल खेले जाते है। इन खेलों में बहुत बड़े बड़े कलाकार अपनी कलाकारी से लोगों को लुभाते हुए भी नज़र आते है। 


फिल्लौर किला (Phillaur fort)

फिल्लौर बहुत ही सुन्दर छोटा सा शहर है। यहाँ पर स्थित फिल्लौर किला शहर की खूबसूरती को चार चाँद लगता है। इस किले का निर्माण महाराजा रणजीत सिंह (Maharaja Ranjit singh) के सेनापति दीवान मोहकम चाँद द्वारा बनाया गया था। इस किले की वास्तुकला को देख कर हर कोई हैरत में पड़ जाता है। इस किले को महाराजा रणजीत सिंह किले के नाम से भी जाना जाता है। मुग़ल बादशाह शाहजांह ने पहले इस स्थान पर एक सराय बनवाई थी, जिसे बाद में महाराजा ने किले में बदल दिया।  



गुरुदवारा मंजी साहिब (Guruduwara manji sahib) 

गुरुदवारा मंजी साहिब लुधिआना शहर से करीब 10 किलोमीटर दूर गांव आलमगीर में स्थित है। इस गुरुदुवारे का सम्बन्ध सिखों के दसवें गुरु गुरु गोबिंद सिंह जी से है। मुग़ल सेना गुरु गोबिंद सिंह जी का पीछा कर रही थी तो, उन्होंने इस स्थान पर आराम किया था। मंजी साहिब में लंगर की सेवा सुबह से देर रात तक चलती रहती है। यहाँ पर हर धर्म के लोग आ सकते है। 



युद्ध संग्रहालय (War museum) 

महाराजा रणजीत सिंह के समय में होने वाले युद्धों में और कारगिल के लड़ाई में प्रयोग किये गए शस्त्रों को यहाँ पर रखा गया है। जिन लोगों को कारगिल की लड़ाई के इतिहास के बारे में जानना हो तो, वह जरूर इस युद्ध संग्रहालय को देखने के लिए आये।



टाइगर सफारी (Tiger safari) 

टाइगर सफारी पर्यटकों के लिए बहुत ही बढ़िया स्थान है। यहाँ पर सैलानियों को टाइगर के साथ काले हिरन, खरगोश, सांभर, मोर और कई प्रकार के जानवर और पंछी देखने को मिलते है। यह बच्चों के लिए बहुत ही बढ़िया स्थान है। 



यह भी पढ़े - 1500 मौतों का गवाह जानिए कौन? 


हार्डी वर्ल्ड (Hardy world) 

फिल्लौर के पास में ही हार्डी वर्ड स्थित है। हर उम्र के लोगों के लिए इस वाटर पार्क में कुछ ना कुछ है। रोलर कोस्टर, पेंडुलम, सुन एंड मून, पानी के कई तरह के खेल की सुविधाएं मिलती है। यहाँ पर गर्मियों में आने का मजा कुछ और ही है। यह लुधिआना (Ludhiana) शहर से सिर्फ 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। लोगों के खाने पीने के बहुत सारी चीज़ें मिलती है।

आइये जानिये छत्तीसगढ़ (Chatisgarh) के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में विस्तार पूर्वक

                               


दुनिया भर से लोग भारत के किसी ना किसी राज्य में घूमने के लिए हर साल बहुत बड़ी संख्या में आते है। भारत का हर राज्य अपनी सभ्यता और भौगोलिक स्थिति के कारण विश्व में प्रसिद्ध है। सैलानियों की मुख्य पसंद में छत्तीसगढ़ का नाम भी आता है। छत्तीसगढ़ (Chatisgarh) में प्राचीन 36 किले सैलानियों को सब से ज्यादा अपनी तरफ आकर्षित करते है। इस राज्य में जंगल, दुर्लभ जानवर और पुरानी इमारतें भी देखने को मिलती है। पुरानी इमारतों की वास्तुकला को देख कर दंग रह जाता है। 


धार्मिक दृष्टि से भी छत्तीसगढ़ बहुत ही महत्वपूर्ण है। यहाँ के मंदिर अपनी सुंदरता और धार्मिक वातावरण के लिए बहुत प्रसिद्ध है। हर साल बहुत बड़ी संख्या में भक्त और सैलानी इन मंदिरों में घूमने के लिए आते है। छत्तीसगढ़ के मंदिरों के बारे में जानने के लिए आप हमारे इस लेख का जरूर पढ़े। इस लेख में हम आप को विस्तार पूर्वक जानकारी देने जा रहे है। 



कैवल्य धाम – Kaivalya dham  


कैवल्य धाम को जैन मंदिर के रूप में जाना जाता है। यह छत्तीसगढ़ (Chatisgarh) के प्रमुख मंदिरों में से एक है।

इस मंदिर के परिसर में 26 छोटे और बड़े मंदिर है। यहाँ पर 24 जैन धर्म के धर्म गुरुओं की मूर्तियां स्थापित की गयी है। हर वर्ष बहुत बड़ी संख्या में जैन धर्म में विश्वास रखने वाले लोग नतमस्तक होने के लिए आते है। कैवल्य धाम सफ़ेद रंग के संगमरमर से बना हुआ है।  


यह मंदिर रायपुर शहर से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जैन मंदिर बहुत बड़े भाग में फैला हुआ है। इसकी वास्तुकला को देख कर सैलानी मोहित हो जाते है। यहाँ पहुंचने के लिए रायपुर हवाई अड्डे से 40 मिनट लगते है। जैन धर्म के हिसाब से यहाँ भोजन भी परोसा जाता है। इस मंदिर का वातावरण बहुत ही शांत है। कैवल्या धाम में आने वाले लोगों को मन की शांति मिलती है। 


यह भी पढ़े- सितारों की नगरी मुंबई में घूमने के लिए पर्यटक स्थलों के बारे में जाने 

बम्लेश्वरी देवी मंदिर – Bamleshwari Devi Temple 


बम्लेश्वरी देवी मंदिर गांव डोंगरगढ़ ज़िला राजनांदगांव छत्तीसगढ़ में स्थित है। इस मंदिर में हर साल दशहरा, राम नौवीं, दीपावली का त्यौहार बहुत ज्यादा धूमधाम के साथ मनाया जाता है। प्रति वर्ष बहुत बड़ी संख्या में भक्त देवी दर्शन के लिए आते है। यह मंदिर छत्तीसगढ़ के प्रमुख मंदिरों में से एक है। हिन्दुओं में इस मंदिर के प्रति अपार श्रद्धा है।


बाडी बम्लेश्वरी मंदिर के नाम से भी इस मंदिर को जाना जाता है। यह 1600 फ़ीट ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। यहाँ का वातावरण बहुत ही शांत और मन को असीम शांति प्रदान करने वाला है। प्रति वर्ष नवरात्री के समय मंदिर में एक ज्योति कलश को जलाया जाता है, जिसे यहाँ के लोग बहुत ही पवित्र दृष्टि से देखते है। मंदिर के चारों तरफ पहाड़ियां ही पहाड़ियां देखने को मिलती है। इस मंदिर तक पहुंचने के लिए ट्राम का इस्तेमाल किया जाता है। यह ट्राम बहुत ही रोमांचकारी होती है।  



दंतेश्वरी मंदिर – Danteshwari temple 


भारत के 52 शक्ति मंदिरों में से एक मंदिर का नाम दंतेश्वरी मंदिर है। दंतेश्वरी मंदिर दंतेवाड़ा शहर में स्थित है। कहा जाता है कि देवी सती का दाँत टूट कर इस स्थान पर गिरा था। दाँत टूटकर गिरने की वजह से इस देवालय का नाम दंतेश्वरी पड़ा था। चालुक्यों ने इस मंदिर का निर्माण 14 वीं सदी में करवाया था। दंतेश्वरी देवी को छह भुजाओं वाली देवी कहा जाता है। मंदिर में देवी की काले रंग की मूर्ति स्थापित की गयी है। 


जंगल और पहाड़ियों के बीच बने इस मंदिर को देखने का नज़ारा बहुत ही अद्भुत होता है। यहाँ के आदिवासी लोग भी इस मंदिर में पूजा अर्चना करने के लिए आते है। देवी के इस मंदिर में पैरो के निशान भी बने हुए है। जिन लोगों को प्रकृति में रुचि है वह लोग इस स्थान पर जरूर घूमने के लिए आये। 



महामाया मंदिर – Mahamaya Temple 


रतनपुर जिला बिलासपुर में महामाया मंदिर स्थित है। इस देवालय में देवी सरस्वती और देवी लक्ष्मी जी को पूजा जाता है। महामाया मंदिर 52 शक्ति पीठ मंदिरों में से एक है। 12 वीं सदी में इस मंदिर के बारे में लोगो को पता चला। विद्वानों का विचार है कि राजा रतन देव को माँ काली देवी ने साक्षात् अपने दर्शन दिए थे। यह मंदिर कोसलेश्वरी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।  


हर साल बहुत ज्यादा भक्त और सैलानी इस मंदिर के दर्शन के लिए आते है। महामाया मंदिर के कपाट रोज सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक खुले रहते है। सिर्फ गुरु नानक गुरुपर्ब को रात 12 बंद होते है। नागर शैली में इस मंदिर का निर्माण किया गया है। यह मंदिर 16 खम्भों पर स्थित है। कोसलेश्वरी मंदिर के गर्भ ग्रह में महामाया देवी की साढ़े तीन फुट की मूर्ति स्थापित है।  



भोरमदेओ मंदिर – Bhoramdeo Temple 


भोरमदेओ मंदिर का इतिहास करीब 1000 साल पुराना है। यह शिवाला जिला कबीरधाम के चोराँगाव में स्थित है। यहाँ पर भगवान शिव की पूजा की जाती है। इस देवालय का निर्माण 1089 ई वी में नागवंशी शासक गोपाल देव ने करवाया था। कोणार्क और खुजराहों मंदिर से मिलती जुलती मंदिर की बनावट होने के कारण छत्तीसगढ़ का खुजराहों मंदिर भी कहा जाता है। 


हिन्दू धर्म के लोगों की इस देवस्थान में बहुत ज्यादा आस्था है। मैकल पर्वत की घाटी में भोरम देव मंदिर स्थित है। उत्तर दिशा में इस मंदिर का प्रवेश द्वार स्थित है। मंदिर को नागर शैली में बनाया गया है। इस भोरमदेओ देवालय में प्रवेश करने के लिए तीन द्वार है। तीनों द्वार मंडप तक जाते है। गर्भ गृह में कई देवी देवताओं की की मूर्तियों के साथ भगवान शिव की मूर्ति को भी स्थापित किया गया है। 


यह भी देखे - यात्रा के दौरान ऑनलाइन शॉपिंग यहाँ से करें

चंद्रहासिनी देवी मंदिर – Chandrahasini Devi Temple 


चंद्रहासनी देवी मंदिर हिन्दू धर्म को मानने वाले लोगों के लिए बहुत बड़ी आस्था का केंद्र है। यह जिला जांजगीर महानदी तट पर स्थित बहुत ही सुंदर मंदिर है। इस मंदिर को माँ चंद्रसेनी के नाम से भी जाना जाता है। माँ चंद्रसेनी मंदिर भारत के 52 शक्ति पीठ मंदिरों में से एक है। यहाँ पर स्थापित माँ चंद्रहासनी का मुख चन्द्रमा जैसा बना हुआ है। 


भक्तों की हर मनोकामना इस स्थान पर पूरी होती है। प्रतिदिन बहुत बड़ी संख्या में लोग इस देवालय में नतमस्तक होने के लिए आते है। नवरात्री के दिनों में बहुत बड़ा समागम होता है। जिसमें बहुत बड़ी संख्या में लोग शामिल होने के लिए आते है। 



बंजारी माता मंदिर – Banjari Mata Mandir 


बंजारी माता मंदिर रायगढ़ शहर से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस देवालय का मुख्य आकर्षण तालाब है। जब हम इस तालाब को ऊपर से देखते है, तो इसका आकार भारत के नक़्शे की तरह से दिखाई देता है। बंजारी माँ की मूर्ति बगलामुखी स्थापित है। इस देवी की आराधना तंत्र मन्त्र के लिए विशेष रूप से की जाती है। 


हिन्दू धर्म के अनुसार देवी की आराधना करने से जन्म मृत्यु से छुटकारा मिलता है। भक्त को मोक्ष की प्राप्ति होती है। देवालय के पीछे गौशाला और गुरुकुल का निर्माण किया गया। बंजारा जाति में जन्म लेने के कारण बंजारी कहा जाता है। 


मनिंदर सिंह "मनी" 

सितारों की नगरी मुंबई में घूमने के लिए पर्यटक स्थल


                                    

मुंबई (Mumbai) को सितारों की नगरी या सपनों का शहर कहा जाता है। मुंबई को बॉम्बे के नाम से भी जाना जाता है। यह महाराष्ट्र राज्य की बहुत ही खूबसूरत राजधानी है। बॉम्बे अपनी खूबसूरती के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। भारत और दुनिया के कोने कोने से कुछ लोग काम की तलाश में या घूमने के लिए आते है। वन्यजीव
, पहाड़, नौका की सवारी के साथ बहुत ही स्वादिष्ट व्यंजन पर्यटकों का दिल जीतने का काम करते है। मुंबई में हर उम्र के लोगों के लिए बहुत से पर्यटन स्थल है। नवविवाहिता दंपति के लिए यह बहुत ही बढ़िया स्थान है। आइए आज हम बात करते है, मुंबई में घूमने वाले स्थानों के बारे में। 

 


हाजी अली दरगाह (Haji Ali Dargah)

 

हाजी अली दरगाह मुस्लिम धर्म के लोगों के साथ दूसरे धर्म के लोगों में विशेष स्थान रखती है। बॉम्बे (Bombay) घूमने वाले पर्यटक हाजी अली दरगाह में जरूर सजदा करने के लिए आते है। इस दरगाह का निर्माण सफ़ेद संगमरमर पत्थर से किया गया है। इसकी इंडो-इस्लामिक वास्तुकला को देख कर हर कोई दंग रह जाता है। यहाँ का मधुर वातावरण और कव्वाली हर किसी के दिल को अत्यंत आनंदित कर देती है।.लोगों को सुबह 10 बजे से, शाम 6 बजे तक इस दरगाह में आने जाने की अनुमति है। इस दरगाह में जाने के लिए कोई भी प्रवेश शुल्क नहीं लगता है।

यह पढ़े ओपेरा हाउस, सिडनी के बारे में जानकारी विस्तार से 

 


मरीन ड्राइव (Marine drive)

 

मुंबई में सब से प्रसिद्ध स्थानों में से एक मरीन ड्राइव है। मरीन ड्राइव की सैर करना बहुत ही बढ़िया अनुभव है। यह दक्षिण मुंबई में नरीमन पॉइंट के दक्षिणी छोर से शुरू हो कर मशहूर चौपाटी समुद्री तट पर ख़त्म होती है। मरीन ड्राइव को रानी के हार के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ का शांत वातावरण हर किसी का दिल जीत लेता है। कई लोग सूर्यास्त देखने के लिए विशेष रूप से आते है। इस स्थान पर जाने का कोई शुल्क नहीं लगता है।

 


एलिफेंटा की गुफाएं (Elephanta Caves)

 

एलिफेंटा की गुफाएं अपनी वास्तुकला के लिए दुनिया भर में बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है। दुनिया के कोने कोने से लोग इन गुफाओं को देखने के लिए आते है। यह गुफाएं लगभग 60000 वर्ग किलोमीटर में फैली हैं। यूनेस्को ने इसे विश्व धरोहर में शामिल किया हैं। तीन सिर वाले शिव, नटराज और अर्धनारीश्वर की मूर्तियाँ सैलानियों का मन मोह लेती है। जिन लोगों को ट्रैकिंग करने का मजा लेना हो, वह भी इस स्थान पर आ सकते है। सैलानियों के लिए सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक गुफाएं खुली रहती है। इन को देखने के लिए भारतीय प्रति व्यक्ति 10 रुपए और विदेशी प्रति व्यक्ति 250 रुपए शुल्क लगता है।

 


गेट वे ऑफ़ इंडिया (Gateway Of India)

 

गेट वे ऑफ़ इंडिया को 20 वीं सदी के दौरान बनाया गया था। यह एक ऐतिहासिक स्मारक है। दक्षिण अरब सागर के तट छत्रपति शिवाजी महाराज सड़क के अंत में अपोलो बंदर क्षेत्र में गेट वे ऑफ़ इंडिया स्थित है। नौका का मजा लेने के लिए यह बहुत ही बढ़िया स्थान है। हर साल बहुत बड़ी संख्या में सैलानी इसको देखने के लिए मुंबई आते है। इसकी वास्तुकला सैलानियों का बड़े आराम से दिल जीत लेती है।

यहाँ पर घूमने का समय सुबह 7 बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक का है। नौकायान का शुल्क समय के हिसाब से 55 रुपए से 120 रुपए तक है।

 


जुहू समुद्री तट (Juhu Chowpatty)

 

जुहू समुद्री तट या जुहू बीच मुंबई में सब से ज्यादा व्यस्त इलाकों में से एक है। यहाँ पर मिलने वाले व्यंजनों का स्वाद लेने के लिए लोग बहुत दूर दूर से आते है। पान पूरी, वडा पाव, बटाटा वडा, भेल पूरीसेव पूरी और चाइनीस खाने का स्वाद लोगों की जीभ से कई कई दिन नहीं जाता है। सैलानी खाने के साथ घुड़सवारी, सैर, साईकल चलाने के साथ ऊँट की सवारी का मजा भी ले सकते है।

 


यह पढ़े - दुबई में घूमने के लिए स्थान, समय और प्रवेश शुल्क की जानकारी

संजय गाँधी राष्ट्रीय उद्यान (Sanjay Gandhi National Park)


संजय गाँधी राष्ट्रीय उद्यान वन्यजीवों से प्रेम करने वाले लोगों के लिए बहुत ही बढ़िया स्थान है। इस राष्ट्रीय उद्यान में सैलानियों को चार सींग वाले हिरण, माउस हिरण, चित्तीदार हिरण, तेंदुए, सांभर, पाम सिवेट जानवरों को देख सकते है। पक्षियों में सी ईगल, पैराडाइज फ्लाईकैचर, सनबर्ड्स और फ्लावरपेकर और ब्राउन हेडेड बारबेट को देखा जा सकता है।

पर्यटकों के लिए नौकायन के साथ कई प्रकार की रोमांचकारी गतिविधियां करवाई जाती है। पर्यटक इस पार्क में सुबह सात बजे से शाम साढ़े छह बजे तक घूम सकते है। यहाँ घूमने के लिए 48 रुपए शुल्क देना होता है। किसी और गतिविधि में भाग लेने के लिए उसका अलग से शुल्क देना होता है।

 


एस्सेल वर्ल्ड (Essel World)

 

हर उम्र के लोगों की पहली पसंद में एस्सेल वर्ल्ड शामिल है। एस्सेल वर्ल्ड घूमे बिना बॉम्बे की यात्रा को पूरा नहीं कहा जा सकता है। क्रेजी कप, हूला लूप, कैटरपिलर, रियो ग्रांडे, शॉट एंड ड्राप जैसी रोमांचकारी सवारी करने को मिलती है। कई प्रकार के पानी के खेल भी खेले जाते है। यह बच्चों के लिए बहुत ही बढ़िया स्थान है। पर्यटकों के लिए सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक खुला रहता है। एस्सेल वर्ल्ड में घूमने के लिए 949 रुपए प्रति व्यक्ति और वाटर किंगडम में घूमने के लिए प्रति व्यक्ति 999 रुपए शुल्क देना पड़ता है।

 


छत्रपति शिवाजी टर्मिनल (Chhatrapati Shivaji Terminals)

 

छत्रपति शिवाजी टर्मिनल भारत के सब से खूबसूरत रेलवे स्टेशन में से एक है। गॉथिक वास्तुकला हर किसी के मन को भाती है। यह बाहर से किसी बड़े महल की तरह दिखाई देता है। यह वाकई में बहुत ही अद्भुत है।

 




फिल्म सिटी, बॉम्बे (Film city, Bombay)

 

बॉलीवुड का घर बॉम्बे को कहा जाता है। फिल्म सिटी में 1000 फिल्म के लिए सेट बनाये जा सकते है। यह 520 एकड़ में फैली हुई है। यहाँ पर घूमने का समय सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक है। इस फिल्म सिटी में प्रवेश के लिए 600 रुपए प्रति व्यक्ति शुल्क देना पड़ता है।

 


रेड कार्पेट वैक्स म्यूजियम (Red Carpet Wax Museum)

 

रेड कार्पेट वैक्स म्यूजियम बॉम्बे में सैलानी अपने पसंदीदा कलाकार के साथ फोटो खिंचवा सकते है। बॉलीवुड कलाकारों के साथ मिस्टर ओबामा, महात्मा गाँधी, ब्रेड पिट, हैरी पॉटर, स्टीव जॉब्स और नेल्सन मंडेला की मोम से बनी मूर्तियां स्थित है। सैलानियों इन मोम के पुतलो के साथ फोटो खिचवाना बहुत ही अच्छा लगता है।

 


नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉडर्न (National gallery of Modern Art)

 

मुंबई में नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉडर्न बहुत बड़ा और प्रसिद्ध संग्रहालय है। वर्ष 1966 के बाद से इस में कलाकृतियों, चित्रों और मूर्तियों का संग्रह शुरू हुआ था। हर वर्ष बहुत बड़ी संख्या में पर्यटक इस संग्रहालय में घूमने के लिए आते है। यह स्थान कला से प्रेम करने वाले लोगों के लिए स्वर्ग से कम नहीं है। 

 




धारावी (Dharavi)

 

बॉम्बे में धारावी इलाका बहुत ही ज्यादा मशहूर है। धारावी एशिया का सब से बड़ा स्लम इलाका है। इस एरिया में घरों में ही लोगों ने छोटे छोटे काम किये हुए है। जिन को अलग अलग धर्म या समुदायों के रहन सहन के बारे में एक ही जगह पर जानना हो, वो इस जगह पर जरूर आये। 

ओपेरा हाउस, सिडनी के बारे में जानकारी




ऑस्ट्रेलिआ बहुत ही सुंदर देश है। इस देश में सैलानियों के घूमने के लिए बहुत बड़ी संख्या में पर्यटक स्थल है। हर साल बहुत बड़ी संख्या में लोग इस देश में घूमने के लिए आते है। यहाँ सिडनी शहर में ओपेरा हाउस (Opera House) नाम की इमारत है। यह अपनी सुंदरता के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। आइए आज बात करते है, ओपेरा हाउस के बारे में विस्तार से।



ओपेरा हाउस का इतिहास (History Opera House)



हर साल बहुत बड़ी संख्या में पर्यटक ओपेरा हाउस देखने के लिए सिडनी आते है। इस इमारत का निर्माण वर्ष 1973 में हुआ था। इसका निर्माण विश्व प्रसिद्ध वास्तुकार जॉन उत्ज़ॉन ने किया था। इस की वास्तु शैली को देख कर हर कोई आनंद से भर जाता है। ओपेरा हाउस को वर्ष 2007 में यूनेस्को ने विश्व धरोहर में शामिल किया हुआ है। इसकी छत कंक्रीट से फ्रेम और प्रीकास्ट कंक्रीट से रिब्ड की गयी है। इसको बनाने के लिए 10000 मज़दूरों ने काम किया था। एलिज़ाबेथ सेकंड रानी ने इस हाउस को आम जनता के लिए 20 अक्टूबर 1973 को आम लोगो के लिए खोला था। हर साल बहुत बड़े स्तर पर लूनर न्यू ईयर मनाया जाता है। ओपेरा हाउस को बनाने में 4 साल का समय सोचा गया था लेकिन इसे बनाने में 14 साल का समय लग गया था।





यह देखे :- स्पेन के पर्यटक स्थल के बारे में जाने 



ओपेरा हाउस में क्या क्या है? (What's in the opera house?)


ओपेरा हाउस में सैलानियों के देखने के लिए बहुत कुछ है। यह बहुत ही सुन्दर और आकर्षक इमारत है। इसमें तीन सिनेमा घर, ड्रामा थिएटर, प्लेहाउस, स्टूडियो स्थित है। यहाँ पर पर्यटक ड्रामा देखने के लिए बहुत बड़ी संख्या में जाते है। इस हाउस के कुछ हिस्सों में ही सैलानियों को जाने की अनुमति है। यहाँ पर कॉन्सर्ट हॉल पर्यटकों की मुख्य मांग में से एक है। कॉन्सर्ट हॉल में एक साथ करीब 2700 लोगो के बैठने की जगह है। इसकी सब से बड़ी ख़ासियत है कि इस हॉल में बैठने वाले दर्शक बाहरी नज़ारे भी देख सकते है।



बच्चों के लिए खास (Special for children)



यहाँ बच्चों को लुभाने के लिए बहुत सारी सुविधाएँ है। हर बच्चा इस में घूमने के आतुर रहता है। ओपेरा हाउस में बच्चों के लिए नाटक, नृत्य, हंसी मज़ाक भरे शो हर साल बच्चों के लिए आयोजित किये जाते है।इस हाउस में कई प्रकार के और भी कार्यक्रम आयोजित किये जाते है। हर साल बहुत बड़ी संख्या में बच्चे भी घूमने के लिए आते है। यह बच्चों कि खास पसंद में से एक है।



ओपेरा हाउस के आसपास घूमने वाले स्थान (Opera house near visiting places)





डार्लिंग हार्बर (Darling Harbour)

डार्लिंग हार्बर के एलजी थिएटर में दुनिया की सब से बड़ी स्क्रीन स्थापित है। यह सैलानियों की पहली पसंद में है। हार्बर में ख़रीददारी करने का अपना ही मज़ा है। बच्चों के लिए बहुत ही सुंदर पार्क बना हुआ है। इस पार्क में झूले और खेलने के लिए बहुत जगह है। इसे हैंग आउट के लिए विशेष रूप से जाना जाता है।



हार्बर ब्रिज (Harber Bridge)



वर्ष 1932 में हार्बर ब्रिज को बनाया गया। यह दुनिया का सब से लंबा स्टील से बना पुल है। इसकी लम्बाई 1149 मीटर है। यह पुल बहुत ही सुन्दर और आकर्षक है। हर दिन बहुत बड़ी संख्या में लोग इस पुल का उपयोग करते है। यहाँ से दूर दूर के दृश्य बहुत ही सुन्दर दिखाई देते है। लोग अक्सर यहाँ पर अपनी फोटो खींचने के लिए रुक जाते है।




रॉयल बायोटेक्निकल गार्डन (Royal Bio technical garden)



रॉयल बायोटेक्निकल गार्डन का निर्माण वर्ष 1816 में हुआ था। परिवार के साथ घूमने के लिए यह बहुत ही बढ़िया स्थान है। लोग अक्सर यहाँ पर पिकनिक मनाने के लिए आते है। यहाँ पर कई प्रकार के पेड़ पौधे है। इस गार्डन में फूलों की महक सैलानियों के आनंद से भर देती है। यह विभिन्न प्रकार के जीवों के जाना जाता है। यहाँ पर लोग बच्चों के साथ घूमना बहुत ज्यादा पसंद करते है।




हाइड पार्क (Hyde park)



पहले विश्व युद्ध के दौरान हाइड पार्क का निर्माण किया गया था। यह बहुत ही सुन्दर और आकर्षक पार्क है। इस पार्क को युद्ध में हिस्सा लेने वाले लोगो के लिए बनाया गया था। हाइड पार्क को ऐतिहासिक स्थान के रूप में जाना जाता है। यहाँ बहुत ही सुन्दर फूल और पेड़ है। स्थानीय लोग हर दिन बहुत बड़ी संख्या में घूमने के लिए आते है।




बोंडी बीच (Bondi beach)



जिन पर्यटकों को सिडनी में कुछ समय शांति के साथ बिताना हो, उन लोगो के लिए बोंडी बीच बहुत ही बढ़िया स्थान है। यह समुद्री तट सैलानियों की पहली पसंद में शामिल है। लोग इस तट पर तैराकी करना बहुत ज्यादा पसंद करते है। यहाँ पर घूमना दिल को बहुत ज्यादा अच्छा लगता है।



यह देखे:- ट्रैवल इंसोरेंस करवाने के लिए यहाँ पर क्लिक करे 



सिडनी टावर (Sydney Tower)



वर्ष 1981 में सिडनी टावर का निर्माण किया गया था। यह सिडनी की सब से ऊंची इमारतों में से एक है। इस टावर को देखने के लिए हर साल बहुत बड़ी संख्या में लोग आते है। इस टावर में ख़रीददारी करने के लिए बाजार और खाने पीने के लिए रेस्त्रां शामिल है। यह घूमने के लिए बहुत ही बढ़िया स्थान है।




तारोंगा चिड़िया घर (Taronga zoo)



तारोंगा चिड़िया घर बहुत ही विशाल है। हर साल बहुत बड़ी संख्या में लोग घूमने के लिए आते है। इसमें करीब 4000 के जानवर देखे जा सकते है। यहाँ पर बहुत ज्यादा किस्मों के साँप देखने को मिलते है।

जानवरों से प्यार करने वाले लोगो के लिए यह बहुत बढ़िया स्थान है।



क्वीन विक्टोरिया बिल्डिंग (Queen Victoria building)


क्वीन विक्टोरिया बिल्डिंग का निर्माण 19 वीं सदी के आस पास हुआ था। यह ऐतिहासिक इमारत बहुत ही पुरानी है। यहाँ लोग ख़रीददारी करने के लिए आते है। यह बहुत ही सुन्दर इमारत है। यहाँ पर हर दिन लोग बहुत बड़ी संख्या में आते है। इस इमारत की वास्तुकला देखने वाली है।


मुझे उम्मीद है कि आप को मेरा यह लेख पसंद आएगा। कृपया अपने विचार अवश्य दे। धन्यवाद।



Maninder Singh "Mani"

स्पेन (Spain) देश के पर्यटन स्थल, कुछ रोचक बातों के बारे में।




दुनिया के खूबसूरत देशों में स्पेन (Spain) का नाम भी आता है। अमेरिका की खोज करने के बाद क्रिस्टोफर कोलंबस ने स्पेन देश की खोज की थी। कहा जाता है कि इसका इतिहास लगभग 1000 ईसा पूर्व का है। मुसलिम लोगों की तादाद इस देश में सब से ज्यादा है। आइए आज बात करते है स्पेन देश के पर्यटन स्थल और इसकी कुछ रोचक बातों (Amazing facts) के बारे में।



बार्सिलोना (Barcelona)

बार्सिलोना स्पेन (Spain) देश का बहुत ही सुन्दर शहर है। पर्यटक इस शहर को स्पेन का स्वर्ग भी कहते है। चॉकलेट का उत्पादन बहुत ही बड़े स्तर पर किया जाता है। बार्सिलोना एक व्यापारिक शहर है। पर्यटकों के लिए यहाँ पर गगनचुम्भी, ऐतिहासिक इमारतों के साथ साथ महल भी है। जो यहाँ आने वाले लोगों को दीवाना बना लेती है। बार्सिलोना के रेस्त्रां की बात ही अलग है। आपको हर प्रकार का स्वाद यहाँ पर खाने को मिल जायेगा।



ग्रेनाडा (Granada)

नाइट लाइफ, स्कीइंग और ट्रैकिंग का शौक रखने वाले लोगो के ग्रेनाडा बहुत ही बढ़िया जगह है। ग्रेनाडा में सांस्कृतिक कार्यक्रम अक्सर होते ही रहते है। यह सांस्कृतिक कार्यक्रम पर्यटकों को अपने और खुद बा खुद ही खींच लेते है। ग्रेनेडा शहर की सुंदरता पूरी दुनिया में मशहूर है। यहाँ ऐतिहासिक इमारतें इस शहर में बहुत बड़ी संख्या में है।





मेड्रिड (Madrid)


स्पेन (Spain) की राजधानी का नाम मेड्रिड है। दुनिया की सब से पुरानी नाइट लाइफ के लिए जाने जाना वाला शहर है। नाइट लाइफ लोगों का मुख्य आकर्षण है। मेड्रिड को संस्कृति और कला का मुख्य स्थान कहा जाता है। इस शहर को देखने के लिए कला प्रेमी बहुत बड़ी संख्या में यहाँ पर आते है। शांति पसंद लोगों के लिए बहुत ही बढ़िया जगह है। विश्व पर्यावरण संगठन का मुख्यालय भी मेड्रिड में स्थित है।



सेविल्ले (Seville)

सेविल्ले (Seville) शहर की असल खूबसूरती देखने का बढ़िया स्थान गुआडलकुईविर नदी का तट है। बुल फाइटिंग (Bullfighting) के लिए यह शहर बहुत ज्यादा मशहूर है। बुल फाइटिंग स्पेन देश का राष्ट्रीय त्यौहार है। सेविल्ले स्पेन (Spain) के अंदालुका क्षेत्र में स्थित है। नाइट लाइफ (Nightlife) यहाँ पर भी बहुत रंगीन होती है। स्पेन की संस्कृति मुख्य रूप से दिखाने वाला शहर है।



इबिज़ा (Ibiza)

इबिज़ा (Ibiza) एक द्वीप है। यह द्वीप बेलिएरिक द्वीप समूह में शामिल है। इबिज़ा बहुत ही मनोहर और प्रसिद्ध द्वीप है। इस द्वीप पर यूरोप में सब से ज्यादा पार्टियों का आयोजन किया जाता है। पर्यटक यहाँ पर ज्यादा नाइट लाइफ़ (Night life) का ही आनंद लेने के लिए आते है।




कैनरी आइलैंड (Canary Islands)

कैनरी आइलैंड (Canary Islands) हनीमून (Honeymoon) मनाने वाले लोगों के लिए बहुत ही बढ़िया जगह है। यहाँ का समुद्री सुन्दर वातावरण लोगो को खुद बा खुद रोमांटिक (Romantic) कर देता है। इस द्वीप के आसपास बहुत ज्यादा ग्रामीण नज़ारा देखने को मिलता है। ग्रामीण क्षेत्र पुरानी स्पेन की संस्कृति को संभाले हुए है। कैनरी आइलैंड में आने वाले लोग यहाँ की प्राचीन कला और दृश्यों को देखते ही रह जाते है।



टेनेरीफ (Tenerife)

टेनेरीफ (Tenerife) बहुत ही बड़ा द्वीप है। इस द्वीप पर आप को ज्वालामुखी, पहाड़, जंगल के साथ बहुत सारे समुद्री तट भी देखने को मिलेंगे। टेनेरीफ के अद्भुत नज़ारे लोगों के दिलो में जिंदगी में भर के लिए बस जाते है। ब्रिटिश और जर्मनी के लोगों की भीड़ सब से ज्यादा यहाँ पर देखने को मिलती है। समुद्र के किनारे ठंडी ठंडी हवा के झोंके शरीर को ताज़गी से भर देते है।





मजोराका (Majorca)

धुप को पसंद करने वाले पर्यटकों का सब से अच्छा स्थान मजोराका (Majorca) है। मजोराका का वातावरण पर्यटकों को शानदार अनुभव प्रदान करता है। जंगली जानवर, वन, पहाड़ियाँ देखने के लिए पर्यटकों को जीवन में एक बार यहाँ पर ज़रूर आना चाहिए। धुप पड़ने से समुद्री तट ऐसे प्रतीत होते है जैसे पानी नहीं मोती चमक रहे हो। मजोराका में वाकई बहुत ही सुन्दर नज़ारे देखने को मिलते है।



मलगा (Malaga)

ऐतिहासिक और सांस्कृतिक शहर के नाम से जाने जाना वाला शहर मलगा (Malaga) है। मलगा शहर सेविल्ल, ग्रेनेडा और कॉरडोबा के बीच में स्थित है। महान कलाकार पाब्लो पिकासो का जन्म मलगा शहर में हुआ था। सांस्कृतिक और कला प्रेमी लोगों के बहुत बढ़िया जगह है घूमने के लिए।



अल्हाम्ब्रा (Alhambra)

अल्हाम्ब्रा (Alhambra) ग्रेनेडा शहर के पथरी भाग पर स्थित है। अल्हाम्ब्रा बहुत ही सुन्दर महल होने के साथ एक किला भी है। इस महल नुमा क़िले का निर्माण 14 वी शताब्दी के नासरी सुल्तानों के द्वारा किया गया था। इस को देखने के लिए लोग देश विदेश से यहाँ पर आते है। स्पेन के पर्यटन स्थलों में से यह एक है।




स्पेन त्यौहार (Spain festival)

स्पेन (Spain) देश के लोग हर साल बहुत सारे त्यौहारों को मनाते है। इस देश के त्यौहार पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। सब से ज्यादा प्रसिद्ध त्यौहार टोमाटीना (Tomatina) है। टोमाटीना (Tomatina) में लोग एक दूसरे के ऊपर टमाटर फेंकते है। यह त्यौहार बहुत बड़े स्तर पर मनाया जाता है। लास फैसल डी वालेंसिया जो (फेस्टिवल ऑफ़ फेयर के नाम से जाना जाता), फेरिआ डी अब्रील (Feria di abril), फेरिआ डेल कैबलो, फेरिआ डी मालगा, सेमाना सांता, सैन फ़ेर्मिन त्यौहार भी मनाए जाते है। यह त्यौहार पर्यटकों को बहुत ज्यादा आनंद से भर देते है।





स्पेन अजीब तथ्य (Spain amazing facts) 


स्पेन देश में आप को अगर नंगा हो कर घूमना है तो, आप बड़े मजे से घूम सकते है। नंगे घूमने पर यहाँ का कानून आप को सजा नहीं देता है। इस देश का राष्ट्रीय पशु सांड है। बुल फाइटिंग का पूरी दुनिया में सबसे बड़ा केंद्र है। दुनिया का करीब 43% ओलिव आयल इस देश में बनाया जाता है। शाही परिवार की कोई अगर बुराई कर देता है तो उसको 2 साल की सज़ा दी जाती है। दुनिया के सब से बड़े फुट बॉल के क्लब इस देश में बने है। स्पेन (Spain)की मुख्य भाषा स्पेनिश है।